Alfaz Zindagi ke # 49

अक्सर लोग टूटना   पसंद   करते है, पर झुकना नहीं !!

              *रिश्ते   खराब   होने   की*

                 *एक वजह ये भी है,*

                        *कि लोग*

         *अक्सर   टूटना   पसंद   करते है* 

                  *पर झुकना नहीं !!*

                     *हमें स्कूल में* 

           *त्रिकोण, चौकोण,* *लघुकोण,*   

                 *समकोण, षटकोण* 

      *इत्यादी   सब   पढ़ाया   जाता   है..*

                           *…पर…*

         *जो जीवन में हमेशा* *उपयोगी है* 

                        *वो कभी* 

                 *पढ़ाया नही जाता …!!* 

                         *..वो  है..*

                        *”दृष्टिकोण”

                                 – Ankur Chaudhari 

Advertisements

Alfaz Zindagi ke #48

वही कामयाब है जिसके खुद पर “विश्वास” हे


                         *”आनंद”* 

                     *एक “आभास” है*

                *जिसे हर कोई ढूंढ रहा है…*


                           *”दु:ख”*

                      *एक “अनुभव” है*

              *जो आज हर एक के पास है..*


                     *फिरभी जिंदगी में*

                   *वही “कामयाब” है*

                         *जिसको* 

                 *खुद पर “विश्वास” हे…!

Alfaz Zindagi ke # 47

परखता तो वक्त है कभी हालात के रूप मे कभी मजबूरीयों के रूप मे

                 *परखता तो वक्त है*

               *कभी हालात के रूप मे* ,

            *कभी मजबूरीयों के रूप मे* !!!

         *भाग्य तो बस आपकी और हमारी*
                 *काबिलियत देखता है !*

                *जीवन में कभी किसी से,*
                *अपनी तुलना मत करों,*

                *आप जैसे है, सर्वश्रेष्ठ है!

        *”ख़्वाब भले टूटते रहे मगर “हौंसले”*

                     *फिर भी ज़िंदा हो*

          *”हौसला ” अपना ऐसा रखो जहाँ*
               *मुश्किलें भी शर्मिंदा हो !!

Alfaz Zindagi ke # 46

जियो और जीने दो



           एक व्यक्ति ने एक फकीर से पुछा

              उत्सव मनाने का बेहतरीन

                 दिन कौन सा है ???

           फकीर ने प्यार से कहा – मौत से

                     एक दिन पहले!

         व्यक्ति: मौत का तो कोई* *वक़्त

                            नहीं!

         फकीर ने मुस्कुराते हुए* *कहा 

       तो ज़िंदगी का हर दिन आख़री समझो

                             और

                  जीने का आनन्द लो

                   जियो और जीने दो

Alfaz Zindagi ke #45

मुस्कुराना”  सीखना पड़ता है 


                   “न मैं *गिरा*

    और न मेरी उम्मीदों के *मीनार* गिरे..! 

   पर.. *लोग* मुझे गिराने मे कई बार *गिरे*…!!”


             सवाल जहर का नहीं था 

                   वो तो मैं पी गया,

            तकलीफ लोगों को तब हुई, 

                   जब मैं *जी गया.*

       

           “मुस्कुराना”  सीखना पड़ता है …!*

          *”रोना” तो पैदा होते ही आ जाता हैं*

Alfaz Zindagi ke #44

थोडा थक गया हूँ , 

               थोडा थक गया हूँ , 

         दूर निकलना छोड दिया है।

             पर ऐसा नहीं है की , 

            मैंने चलना छोड दिया है ।
            फासले अक्सर रिश्तों में , 

                 दूरी बढ़ा देते हैं।

                 पर ऐसा नही है की , 

       मैंने अपनों से मिलना छोड दिया है ।
        हाँ . . . ज़रा अकेला हूँ , , , दुनिया की भीड में।

                  पर ऐसा नही की , 

            मैंने अपनापन छोड दिया है 
                याद करता हूँ अपनों को, 

                    परवाह भी है मन में।

                बस , कितना करता हूँ ,

                 ये बताना छोड दिया।।

  

Alfaz Zindagi ke # 43

जरा इज्जत से समेटना बुझे हुए दिए को


      जरा इज्जत से समेटना बुझे हुए दिए 

                          को दोस्तों|

     इन्होंने हमें अमावस की अंधेरी रात में 

                      रोशनी दी थी|

    किसी और को जलाकर खुश होना 

                    अलग बात है|

      उन्होंने तो खुद को जला कर हमें 

                   खुशी दी थी|


                      – Ankur Chaudhari 

Alfaz Zindagi ke # 42

अपने आप पर  विश्वास रखें




                *क्यूँ कहते हो की कुछ बेहतर*  

                            *नहीं होता,*

             *सच तो ये है की जैसा चाहो वैसा*

                           *नहीं होता,*

                *कोई तुम्हारा साथ न दे तो*

                          *गम न कर,*

              *खुद से बड़ा दुनिया में कोई*   

                   *हमसफ़र नहीं होता*

                *किसी ने सच ही कहा हैं*

           *भरोसा ” ईश्वर ” पर है,तो जो*   

              *लिखा है तकदीर में, वो ही*   

                         *पाओगे !*

                  *मगर , भरोसा अगर ”*

                     *खुद ” पर है तो*

         *ईश्वर वही लिखेगा , जो आप चाहोगे !!!*

      

                           – Ankur Chaudhari. 

Happy Diwali 

Happy Diwali… 


        Is Dipawali pe mere sabhi bloggers dosto ko meri taraf se Hardik Subh kamna.. 

 Apka jivan sukhmay ho, 

Apki acchi sehat bani Rahe, 

apka parivar hardam Hasta Muskurata Rahe.

 Apka vyasay adi me vriddhi hoti Rahe aur Maa-Laxmi ki kripa barasti Rahe. 

Apke man me Insaniyat ki bhavna badhti Rahe aur apke hatho jaruratmand ko Madad milti Rahe… 

Aur, Apke man me sada ucch vichar ate Rahe aur app accha likhte Rahe… 

Yahi kamna ke sath app sabko Dipawali ki bahot bahot subh kamna… 

                            – Ankur Chaudhari 

Alfaz Zindagi ke #41

सोच  बड़ी  होनी चाहिए।


                सूर्यास्त के समय एक बार सूर्य ने 

                          सबसे पूछा, मेरी    

       अनुपस्थिति में मेरी जगह कौन कार्य करेगा?*


                *समस्त विश्व में सन्नाटा छा गया।*

               *किसी के पास कोई उत्तर नहीं था।* 


             *तभी  कोने से एक आवाज आई–*


                 *दीपक ने कहा “मैं हूं  ना”*   

             *मैं अपना पूरा  प्रयास  करुंगा  ।* 


       *आपकी सोच  में  दम होना चाहिए , 

                     चमक होनी चाहिए।*

       *छोटा -बड़ा होने से फर्क  नहीं पड़ता, 

                 सोच  बड़ी  होनी चाहिए।*


                          – Ankur Chaudhari